रविवार, 25 जून 2017

थोड़ी दूर अकेले चलने की सोचें

थोड़ी दूर अकेले चलने की सोचें
आख़िर क्यों साँचे में ढलने की सोचें

सब अपनी अपनी राहों से जाएँगे
हम क्यों तेरी राह बदलने की सोचें

जितने गहरे जाना था हम डूब चुके
अब कोई तरकीब निकलने की सोचें

तेरी संगदिली भी एक मसळआ है
लेकिन हम क्यों संग पिघलने की सोचें

क्या जाने कब ज़ख़्मी हो ले मूरख दिल
इन ज़ख़्मों के साथ संभलने की सोचें

आशिक़ तो बेचारा खुद ही मिट लेगा
हम क्यों कोई रस्म बदलने की सोचें

कहते हैं 'आनंद' मिलेगा जलने में
ऐसा हो तो हम भी जलने की सोचें

– आनंद

2 टिप्‍पणियां: